0

फोड़ा, फुंसी का घरेलू उपाय - Funsi Ka Ilaaj In Hindi, Funsi in Ear, phunsi home remedy,foda funsi ka gharelu ilaaj, baltod treatment, boil Inside nose


फोड़ा, फुंसी अक्सर हमे परेशान कर जाती है | अगर आप भी Phoda, Funsi, Phunsi से परेशान है तो अब आपकी परेशानी दूर हो हो सकती है क्योकि आप पढ़ रहे है - फोड़ा फुंसी के घरेलू इलाज के बारे मे | आइये देखते है कैस करे इसका उपाय -



नाक की फुंसी - तवचा संकर्मण, पेट की खराबी और बढ़ी हुई ऊषणता के कारण नाक के अंदर फुंसी हो जाती है | जिसके नाक के ऊपर हल्की सी सूजन हो जाती है |

इस फुंसी के कारण नाक के आसपास तनाव सा बना रहता है | इसका घरेलू इलाज इस तरह से किया जाता है - 

  • सुबह मोगरे फूल के ताजे 2-3 फूलो को 2-3 बार गहरी लंबी सांस लेते हुए सूंघे और फूल को फेक दे | कई बार तो एक बार मे सूंघने से फुंसी मुरझा जाती है | यह आप जरूरत पढ़ने पर तीन दिन लगातार यह प्रयोग करे |
पलक की फुंसी - कभी कभी आँख के पलक पर या नीचे के हिस्से मे फुंसी उठ आती है | इसे गुहेरी कहते है | इसके होने का कारण भी बड़ा अजीब बतया जाता है | जो पुरुष - स्त्री अपने गुप्तांग को प्रतिदिन पानी से धोकर साफ नहीं करते उन्हे यह फुंसी होती है | खेर कारण जो भी हो लेकिन इसका घरेलू उपचार इस तरह से किया जा सकता है -

किसी पुरानी कच्ची दीवार मे चिपके हुए कोयले का टुकड़ा ले आए | कच्ची दीवार [ मिट्टी की दीवार ] एक साफ पत्थर पर थोड़ा सा पानी डालकर कोयले को घिसे, अनामिका उंगली से इस लेप को आईने मे देखते हुए सिर्फ फुंसी पर ही लगाए इधर उधर न लाग्ने दे | ऐसा करने से थोड़े ही देर मे फुंसी का तनाव मिट जाएगा व फुंसी मुरझा जाएगा | जरूरत पड़ने पर 1-2 बार और लगा सकते है |

  • Antibiotic- Augmentin [ 625mg ] Three Time A day. Later This May Be Change According To Culture And Sensitivity Off Naval Discharge |
  • Anti Inflammatory  And Analgestic - Dilofenac 50mg, paracetamol 500mg + Seratiopepidase 15mg Twice a Day |
  • Anti Allergic - I Hope this Will help you otherwise Consultation With ENT Nose, Ear, Face Specialist Will be Necessary For proper Examination And Treatment


फोड़े फुंसी की चिकत्सा -  थोड़ी सी साफ रुई पानी मे भीगा दे से फिर हथेलियो से दबाकर पानी निकाल दे | तवे पर थोड़ा सा सारसो का तेल डाले और उसमे इस रुई को पकाए | फिर उतारकर सहन कर सकने योग्य गर्म रह जाए तब इसे फोड़े पर रखकर पट्टी बांध ले | ऐसी पट्टी सुबह शाम बांधने से एक दो दिन मे फोड़ा पककर फुट जाएगा | उसके बाद सरसों की तेल की जगह घी का उपयोग उपरोक्त विधि के अनुसार करने से घांव बाहर कर ठीक हो जाता है |

  • फोड़े फुंसियों पर वट वृक्ष या बरगद के पत्तों को गरम कर बांधने से शीघ्र ही पक कर फुट जाते है |
  • आयुर्वेद के अनुसार नीम की सुखी छाल को पानी के साथ घिसकर फोड़े फुंसी पीआर लेप लगाने से बहुत लाभ मिलता है और धीरे धीरे इनकी समाप्ती हो जाती है |
  • जब तक समस्या से पूरी तरह छुटकारा नहीं मिल जाता यानि शक्कर से बनी, बासी, तली-गली और अधिक मिर्च मसाले दार चीजों को पूरी तरह से छोड़ दे |
  • फोड़े-फुंसी, दराद या खुजली वाले स्थान पर मुली के बीज पानी मे पीसकर गरम करके लगाने से तत्काल लाभ मिलता है |
  • नीम की पत्तियों को पीसकर फोड़े-फुंसी, दराद या खुजली वाले स्थान पर लगाने और पानी के साथ पीने से बहुत शीघ्र लाभ मिलता है | 
  • नींबू के छोटे पत्ते खाने से भी लाभ मिलता है | नींबू मे मौजूद बीटामिन सी खून साफ करता है | फोड़े फुंसियों पर नींबू की छाल पीसकर लगाए | सप्ताह मे एक बार फोड़े-फुंसियों पर मुलतानी मिट्टी लगाए फिर एक से दो घंटे मे नहाए |
  • पालक, मुली के पत्ते, प्याज, टमाटर, गाजर, अमरूद, पपीता आदि को अपने भोजन मे नियामित रूप से शामिल करे |
  • सुबह खाली पेट चार पाँच तुलसी की पत्तिया चूसने से भी त्वचा रोगो मे स्थायी लाभ होता है |
  • पानी का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा करे खूब पानी पिए |
  • सुबह उठकर 2-3 किलो मीटर घूमने के लिए अवश्य जाए ताकि आपके शरीर और रक्त को शुद्ध ताजा हवा मिल सके और शरीर का रक्त प्रवाह भी सुधर सके |

फोड़े फुंसी या दाद खाज खुजली जैसी चमड़ी की बीमारियो के पीछे प्रमुख रूप से रक्त का दूषित होना है | जब शरीर का खून दूषित यानि गंदा हो जाता है | तो कुछ समय उसका दुष्प्रभाव हमारी बाहरी तवचा पर भी नजर आने लगता है | बाहरी और भीतरी प्रदुषण ने मिलकर हमारे शरीर प्राकृतिक खूबसूरती को छीनकर कई सारे त्वचा रोगो को जन्म दिया है फोड़े फुंसिया भी उनमे से एक है |

शादी विवाह के लिए लड़का लड़की तलाश खत्म फ्री रजिस्ट्रेशन ऑफर यहाँ क्लिक से पाए लड़का लड़की का मोबाइल नम्बर Kindly Share Article click icons⤵

Post a Comment